आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

गुरुवार, मई 19, 2016

उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा प्रकाशित पुस्तक में 'नन्ही ब्लॉगर पाखी की ऊँची उड़ान'


उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ  द्वारा प्रकाशित पुस्तक "...और हमने कर दिखाया" (देश के कुछ प्रतिभावान बच्चों की कहानियाँ, सम्पादन-प्रेमेंद्र श्रीवास्तव)  में अक्षिता (पाखी) पर भी 'नन्ही ब्लॉगर पाखी की ऊँची उड़ान" शीर्षक से एक अध्याय ...आभार !!


शुक्रवार, अप्रैल 22, 2016

हिंदी ब्लागिंग की 13वीं वर्षगाँठ : नन्ही ब्लॉगर अक्षिता (पाखी) की चर्चा

न्यू मीडिया के इस दौर में ब्लाॅगिंग लोगों के लिए अपनी बात कहने का सशक्त माध्यम बन चुका है। राजनीति की दुनिया से लेकर फिल्म जगत, साहित्य से लेकर कला और संस्कृति से जुड़े तमाम नाम ब्लॉगिंग से जुडे हुए हैं।  आज ब्लाॅग सिर्फ जानकारी देने का माध्यम नहीं बल्कि संवाद, प्रतिसंवाद, सूचना विचार और अभिव्यक्ति का भी सशक्त ग्लोबल मंच है। 

यदयपि ब्लागिंग का आरंभ  1999 से माना  जाता है पर हिंदी में ब्लागिंग का आरम्भ वर्ष 2003 में हुआ। आज हिंदी में करीब एक लाख से ज्यादा ब्लॉग हैं और विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोग बखूबी इसके माध्यम से सक्रिय हैं। इनमें एक परिवार ऐसा भी है, जिसके सभी सदस्य हिंदी ब्लॉगिंग से जुड़े हुए हैं।  चर्चित हिंदी ब्लॉगर एवं सम्प्रति राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के  निदेशक  डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव बताते हैं कि पूर्णतया हिन्दी में ब्लाॅगिंग आरंभ करने का श्रेय आलोक को जाता है, जिन्होंने 21 अप्रैल 2003 को हिंदी के प्रथम ब्लॉग ’नौ दो ग्यारह’ से इसका आगाज किया। सार्क देशों के सर्वोच्च 'परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान' से सम्मानित एवं नेपाल, भूटान और श्रीलंका सहित तमाम देशों में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर्स सम्मेलन में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले श्री यादव जहाँ अपने साहित्यिक रचनाधर्मिता हेतु "शब्द-सृजन की ओर" (http://kkyadav.blogspot.in/) ब्लॉग लिखते हैं, वहीं डाक विभाग को लेकर "डाकिया डाक लाया" (http://dakbabu.blogspot.in/) नामक उनका ब्लॉग भी चर्चित है। श्री यादव का पूरा परिवार ही हिंदी ब्लॉगिंग से जुड़ा हुआ है। 

वर्ष 2015 में हिन्दी का सबसे लोकप्रिय ब्लाॅग 'शब्द-शिखर' (http://shabdshikhar.blogspot.com) को चुना गया और इसकी मॉडरेटर आकांक्षा यादव को  हिन्दी में ब्लाॅग लिखने वाली शुरूआती महिलाओं में गिना जाता है। ब्लॉगर दम्पति कृष्ण कुमार यादव और आकांक्षा यादव को  'दशक के श्रेष्ठ ब्लॉगर दम्पति',  'परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान' के अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा नवम्बर, 2012 में ”न्यू मीडिया एवं ब्लाॅगिंग” में उत्कृष्टता के लिए ”अवध सम्मान से भी विभूषित किया जा  चुका  है। इस दंपती ने वर्ष 2008 में ब्लाॅग जगत में कदम रखा और  विभिन्न विषयों पर आधारित दसियों ब्लाॅग का संचालन-सम्पादन करके कई लोगों को ब्लाॅगिंग की तरफ प्रवृत्त किया और अपनी साहित्यिक रचनाधर्मिता के साथ-साथ ब्लाॅगिंग को भी नये आयाम दिये। नारी सम्बन्धी मुद्दों पर प्रखरता से लिखने वालीं आकांक्षा यादव का मानना है कि न्यू मीडिया के रूप में उभरी ब्लाॅगिंग ने नारी-मन की आकांक्षाओं को मुक्ताकाश दे दिया है। आज एक लाख से भी ज्यादा हिंदी ब्लाॅग में लगभग एक तिहाई ब्लाॅग महिलाओं द्वारा लिखे जा रहे  हैं। 

ब्लॉगर दम्पति यादव की 9 वर्षीया सुपुत्री अक्षिता (पाखी) को भारत की सबसे कम उम्र की ब्लॉगर माना जाता है, जो कि वर्तमान में हैप्पी आवर्स स्कूल, जोधपुर में कक्षा 4 की छात्रा हैं। अक्षिता की प्रतिभा को देखते हुए भारत सरकार ने  वर्ष 2011 में उसे "राष्ट्रीय बाल पुरस्कार" से सम्मानित किया, वहीं पिछले वर्ष अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर सम्मेलन, श्री लंका में उसे  "परिकल्पना कनिष्ठ सार्क ब्लॉगर सम्मान" से भी सम्मानित किया गया। इसके 'पाखी की दुनिया'  (http://pakhi-akshita.blogspot.in/) ब्लॉग को 100 से ज्यादा देशों में देखा-पढा जाता है और लगभग 450 पोस्ट वाले इस ब्लॉग को 260 से ज्यादा लोग नियमित अनुसरण करते हैं। 

हिंदी ब्लॉगिंग की दशा और दिशा पर पुस्तक लिख रहे चर्चित ब्लॉगर कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि,  आज हिन्दी ब्लाॅगिंग में हर कुछ उपलब्ध है, जो आप देखना चाहते हैं। हर ब्लॉग का अपना अलग जायका है। यहाँ खबरें हैं, सूचनाएं हैं, विमर्श हैं, आरोप-प्रत्यारोप हैं और हर किसी का अपना सोचने का नजरिया है। तेरह सालों के सफर में हिंदी ब्लागिंग ने एक लम्बा मुकाम तय किया है। आज हर आयु-वर्ग के लोग इसमें सक्रिय हैं, शर्त सिर्फ इतनी है कि की-बोर्ड पर अंगुलियाँ चलाने का हुनर हो ।









बुधवार, अप्रैल 06, 2016

'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क में अक्षिता व अपूर्वा

बिटिया आई, ऑफिस में नई रौनक लाई : 'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क के तहत 5 अप्रैल, 2016 को हम दोनों सिस्टर्स अक्षिता और अपूर्वा अपने पापा के साथ उनके ऑफिस गए और वहाँ की कार्य प्रणाली को समझा और लोगों से बातचीत कर काफी कुछ सीखा। राजस्थान पत्रिका के जोधपुर संस्करण में फ्रंट पेज पर आज 5 अप्रैल, 2016 को अपनी सम्बंधित फोटोग्राफ और अनुभव देखना अच्छा लगा।   




पापा का काम जानकर मिला सुकून : अक्षिता (9) और अपूर्वा (5) 'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क के तहत अपने पापा श्री कृष्ण कुमार यादव के साथ उनके ऑफिस पहुँचीं।  श्री यादव राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं हैं। इस अवसर पर राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित नन्ही ब्लॉगर अक्षिता ने राजस्थान पत्रिका को बताया कि पापा के ऑफिस जाकर और वहाँ की कार्य प्रणाली देखकर बहुत अच्छा और प्रेरणादायी लगा। मैं भी बड़ी होकर पापा जैसी ही आई.ए.एस. परीक्षा देकर ऑफिसर बनना चाहती हूँ।  पापा के ऑफिस में फाइलों के निपटान से लेकर तमाम प्रोजेक्ट्स की ऑनलाईन मॉनिटरिंग देखी। ऑफिस आकर देखा कि पापा कैसे लोगों की समस्या का समाधान करते हैं।  इस शानदार पहल के लिए पत्रिका का आभार। 







Inspired to see the Papa in official capacity and his working in the office.  I will like to be an dynamic Officer like him. Proud of you Papa. Thanks a lot to Rajasthan Patrika for being part of Daughters at work - Akshitaa (Pakhi)

'भोर की उजास है बिटिया, प्रभात की पहली किरण है बिटिया, सफलता का हर क्षण है बिटिया, जीवन का सार है बिटिया, खुशियों का संसार है बिटिया।' हमारा घर बेटियों से रोशन है। अब एक कदम और आगे बढ़ाएं और इस बार 5 अप्रैल के दिन को सार्थक बनाएं। राजस्थान पत्रिका के अभियान 'बिटिया@ वर्क' के साथ जुड़कर अपने जीवन की अमूल्य निधि अपनी बिटिया को मौका दें आपके संसार को समझने का। इस खास दिन अभियान के साथ कदम से कदम मिलाते हुए आप अपने कार्यस्थल पर 8 से 19 वर्ष तक की बेटी को जरूर लाएं। यह कार्यस्थल आपका दफ्तर, खेत-खलिहान, व्यापारिक प्रतिष्ठान, कारखाना, दुकान कोई भी हो, लेकिन बेटी को इस कर्मक्षेत्र से परिचित कराएं। आपके काम का मर्म समझाएं, आपकी सीट पर बैठाएं और आपकी तरह ही काम करने का मौका दें। खास दिन का यह अनुभव आपकी बिटिया को नई ऊंचाई देगा और आपके स्नेह की मिठास को और बढ़ा देगा। इन खास पलों के फोटो आप हमारे साथ शेयर करें। हम इसे करोड़ों पाठकों तक पहुंचाएंगे।  (राजस्थान पत्रिका की अपील)


मंगलवार, अप्रैल 05, 2016

Akshitaa (Pakhi) promoted in Class 4 now...


अब  हम क्लास 4 में आ गए। कल यानी 4 अप्रैल को इस क्लास में पहला दिन था। हमारी पुरानी क्लास के सभी स्टूडेंट्स का सेक्शन बदल गया है, इसलिए नए सेक्शन में पुरानी क्लास के कुछेक फ्रैंड्स ही हैं। अधिकतर चेहरे तो नए ही हैं । पापा हमेशा कहते हैं कि एक ही जगह से नहीं दिल लगाना, क्योंकि ट्रांसफ़रेबल जॉब में अभी तमाम नए शहर और स्टेट्स देखने हैं । हमारी सिस्टर अपूर्वा भी अब  प्रेप में प्रमोट हो गई हैं।

क्लास 3से 4 में एक नया परिवर्तन यह आया है कि अब हमें इंग्लिश 4 लाईन में नहीं बल्कि दो लाईन में लिखनी है। इसके अलावा अब हर पीरियड  की नई टीचर होंगी।

नई क्लास, नया सेक्शन, नए दोस्त, नई टीचर्स और ढेर सारी नई बुक्स ......................!!





सोमवार, अप्रैल 04, 2016

Akshitaa (Pakhi) in International Olympiad of Science

स्कूल की पढाई के साथ-साथ आजकल प्राय: अन्य गतिविधियों में भी मैं खूब भाग ले रही हूँ।  इसी क्रम में मैंने इंटरनेशनल ओलम्पियाड ऑफ़ साइंस-2015 में भी भाग लिया।  इसमें तो कई विषय वस्तु ऐसी थी, जिनसे मैं पहली बार रूबरू हुई, पर जब तक हम पार्टिसिपेट नहीं करेंगें, उन्हें सीखेंगे कैसे !  


Akshitaa Yadav has participated and acquired 4th position in the Class, secured 32 state rank and achieved 2,842 international rank in International Olympiad of Science-2015.


मुगल बादशाहों के अक्षिता (पाखी) द्वारा बनाए गए चित्र

इतिहास की किताबें सभी को प्रभावित करती हैं। राजा-रानियों के किस्से, संघर्ष और लड़ाईयाँ और भी न जाने कितनी दस्तानें। इतिहास की किताबों से निकलकर कई बार ये चरित्र हमारी लेखनी या कला का हिस्सा बन जाते हैं और फिर पन्नों पर हम उन्हें अपने अनुसार चित्रित करते हैं।  ऐसा ही एक प्रयास किया, अक्षिता (पाखी) ने और मुगल बादशाह अकबर, शाहज़हां और जहांगीर को पन्नों पर उकेर डाला।  आप सभी के अवलोकनार्थ यहाँ प्रस्तुत हैं, मुगल बादशाहों के अक्षिता द्वारा बनाए गए चित्र -
मुगल बादशाह अकबर


मुगल बादशाह शाहज़हां 
मुगल बादशाह  जहांगीर 

शुक्रवार, अप्रैल 01, 2016

विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा में अक्षिता (पाखी) को मिला गोल्ड मेडल

 

अक्षिता (पाखी) ने राष्ट्रीय स्तर की विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा में अपने स्कूल हैप्पी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में गोल्ड मेडल के साथ द्वितीय स्थान प्राप्त किया। 
Akshitaa (Pakhi) participated in National Level Science Talent Search Examination (NSTSE -2016) and got 2nd Rank with Gold Medal in 
her school Happy Hours School, Jodhpur, Rajasthan.




Certificate of appreciation : This Certificate has been awarded to Akshitaa, a student of Happy Hours School, by Unified Council, Foundation for success in appreciation of her excellent performance in the  National Level Science Talent Search Examination (NSTSE -2016) held on 4th December, 2015. She secured 10625 Rank at the National level. She is the 2nd ranker in her school, in the NSTSE -2016



शनिवार, मार्च 26, 2016

Happy Birthday to Akshitaa (Pakhi) : Sweet Memories


हमने अपना हैप्पी बर्थ-डे जोधपुर में सेलिब्रेट किया और केक काटने की सेरेमनी घर में ही की।  इस पल की कुछेक यादगर तस्वीरें। 


















शुक्रवार, मार्च 25, 2016

हमारा हैप्पी बर्थ-डे फिर से आ गया...


लीजिए हमारा हैप्पी बर्थ-डे फिर से आ गया।  
इस बार अपना बर्थ-डे हम जोधपुर-राजस्थान में सेलिब्रेट कर रहे हैं। 






बर्थ-डे पर आप सभी  के आशीर्वाद और स्नेह का इंतज़ार रहेगा !!


बुधवार, मार्च 23, 2016

रंगों का त्योहार मुबारक हो...











रंगों का त्योहार मुबारक हो;
खुशियों की फुहार मुबारक हो;
सात रंग से सजे आपका जीवन;
एक नहीं, दो नहीं सौ-सौ बार मुबारक हो। 



रंगों के पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ !! 




मंगलवार, मार्च 08, 2016

राजस्थान पत्रिका में चर्चा : सबसे कम उम्र की ब्लॉगर अक्षिता


किसी ने सोचा नहीं होगा कि ब्लाॅगिंग या चिट्ठाकारी भी शोहरत और दौलत दिला सकती है, लेकिन अब ऐसा हकीकत में हो रहा है। केवल एक ब्लाॅग आपको ब्लाॅगिंग किंग या क्वीन बना सकता है। ब्लाॅगिंग में जहाँ पुरूष सक्रिय हैं, वही महिलाएं भी अब इसमें नाम व धन कमा रही हैं। महिलाएं कुकिंग, लाइफस्टाइल, इंटीरियर, फैशन, बाॅलीवुड, इंस्पिरेशनल आदि कई तरह के ब्लाॅग्स के जरिए प्रसिद्धि पा रही हैं और उन्होंने इसे कैरियर बना लिया है, जो उन्हें शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचा रहा है। आइए मिलते हैं कुछ ऐसी ही महिला ब्लाॅगर्स से.......

सबसे कम उम्र की ब्लाॅगर : अक्षिता यादव

25 मार्च 2007 को कानपुर में जन्मी पाखी यानी अक्षिता यादव भारत की सबसे कम उम्र की ब्लाॅगर के रूप में राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता का सम्मान पा चुकी हैं । अक्षिता की ब्लाॅगर मां ने 24 जून 2009 को पाखी की दुनिया (http://www.pakhi-akshita.blogspot.in)  नाम से अक्षिता का ब्लाॅग बनाया। इस ब्लाॅग पर तमाम प्रतिक्रियाएं प्राप्त हुई और 100 से ज्यादा देशों में इसे देखा-पढ़ा जाता है। अक्षिता और उसका ब्लाॅग पाखी की दुनिया फेसबुक (https://www.facebook.com/AkshitaaSingh) पर भी उपलब्ध है। 

ब्लाॅगिंग को दे रहीं नए मुकाम : आकांक्षा यादव

एक साहित्यकार और ब्लाॅगर है आकांक्षा । वह मूलतः उत्तर प्रदेश  की हैं  लेकिन राजस्थान से भी उनका नाता है। उन्हें हिन्दी में ब्लाॅग लिखने वाली शुरूआती महिलाओं में गिना जाता है। इनके ब्लाॅग को अब तक लाखों लागों ने पढ़ा है और करीब सौ से ज्यादा देशों में इन्हें देखा-पढ़ा जाता है। उनके ब्लाॅग  'शब्द-शिखर' (http://shabdshikhar.blogspot.com) को वर्ष 2015 में हिन्दी का सबसे लोकप्रिय ब्लाॅग चुना गया।

प्रस्तुति : मधुलिका सिंह 

                                                           ********************
(सबसे कम उम्र की ब्लॉगर : अक्षिता (पाखी) की चर्चा 'अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस' पर राजस्थान पत्रिका में 'मिलिए ब्लॉगिंग क्वीन्स से' के तहत....साथ में अक्षिता की मम्मी की भी चर्चा- "ब्लॉगिंग को दे रहीं नए मुकाम : आकांक्षा यादव".. ....आभार !!)

शनिवार, फ़रवरी 13, 2016

हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर में आयोजित प्रतियोगिताओं में अक्षिता ने हासिल किये सर्टिफिकेट ऑफ़ मेरिट

 अरे वाह! एक साथ इतने सारे सर्टिफिकेट्स पाकर अच्छा लग रहा है। अपने स्कूल में आयोजित हुए विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेना और फिर उपलब्धियों के रूप में उनमें स्थान प्राप्त करना वाकई सुखद एहसास देता है।

अक्षिता (पाखी) ने अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं  में भाग लिया और विभिन्न स्थान प्राप्त कर सर्टिफिकेट ऑफ़ मेरिट हासिल किए। 


अक्षिता की सिस्टर अपूर्वा ने भी प्रतियोगिताओं  में भाग लेकर इंजॉय किया और सर्टिफिकेट हासिल किया। 


अपूर्वा को अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित 'फ्रॉग रेस' कम्पटीशन में तृतीय स्थान प्राप्त हुआ।
Apurva secured Third position in 'FROG RACE' Competition in her Happy Hours school, Jodhpur, Rajasthan.

अक्षिता (पाखी) और अपूर्वा अपने \सर्टिफिकेट ऑफ़ मेरिट  के साथ, अपने पापा श्री कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवाएं, राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के साथ। 


 अक्षिता (पाखी) को अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित 'कोलाज मेकिंग' प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।
Akshitaa (Pakhi) secured First position in 'COLLAGE MAKING' Competition in her Happy Hours School, Jodhpur, Rajasthan.


Akshitaa (Pakhi) secured Second position in 'TAG the PICTURE' Competition in her Happy Hours School, Jodhpur, Rajasthan.
अक्षिता (पाखी) को अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित 'टैग दि पिक्चर' कम्पटीशन में द्वितीय स्थान प्राप्त हुआ।

अक्षिता (पाखी) को अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित ''स्पेलोमेनिया" प्रतियोगिता  में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।
Akshitaa (Pakhi) secured Second position in 'SPELLOMANIA' Competition in her Happy Hours School, Jodhpur, Rajasthan.


अक्षिता (पाखी) को अपने स्कूल हैपी ऑवर्स स्कूल, जोधपुर-राजस्थान में आयोजित 'पिक्चर कम्पोजिशन ' प्रतियोगिता  में तृतीय स्थान प्राप्त हुआ।
Akshitaa (Pakhi) secured Third position in 'PICTURE COMPOSITION' Competition in her Happy Hours school, Jodhpur, Rajasthan.



अक्षिता (पाखी) अपने सर्टिफिकेट ऑफ़ मेरिट  के साथ।