आप सब 'पाखी' को बहुत प्यार करते हैं...

बुधवार, अप्रैल 06, 2016

'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क में अक्षिता व अपूर्वा

बिटिया आई, ऑफिस में नई रौनक लाई : 'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क के तहत 5 अप्रैल, 2016 को हम दोनों सिस्टर्स अक्षिता और अपूर्वा अपने पापा के साथ उनके ऑफिस गए और वहाँ की कार्य प्रणाली को समझा और लोगों से बातचीत कर काफी कुछ सीखा। राजस्थान पत्रिका के जोधपुर संस्करण में फ्रंट पेज पर आज 5 अप्रैल, 2016 को अपनी सम्बंधित फोटोग्राफ और अनुभव देखना अच्छा लगा।   




पापा का काम जानकर मिला सुकून : अक्षिता (9) और अपूर्वा (5) 'राजस्थान पत्रिका' की पहल बिटिया @ वर्क के तहत अपने पापा श्री कृष्ण कुमार यादव के साथ उनके ऑफिस पहुँचीं।  श्री यादव राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर के निदेशक डाक सेवाएं हैं। इस अवसर पर राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित नन्ही ब्लॉगर अक्षिता ने राजस्थान पत्रिका को बताया कि पापा के ऑफिस जाकर और वहाँ की कार्य प्रणाली देखकर बहुत अच्छा और प्रेरणादायी लगा। मैं भी बड़ी होकर पापा जैसी ही आई.ए.एस. परीक्षा देकर ऑफिसर बनना चाहती हूँ।  पापा के ऑफिस में फाइलों के निपटान से लेकर तमाम प्रोजेक्ट्स की ऑनलाईन मॉनिटरिंग देखी। ऑफिस आकर देखा कि पापा कैसे लोगों की समस्या का समाधान करते हैं।  इस शानदार पहल के लिए पत्रिका का आभार। 







Inspired to see the Papa in official capacity and his working in the office.  I will like to be an dynamic Officer like him. Proud of you Papa. Thanks a lot to Rajasthan Patrika for being part of Daughters at work - Akshitaa (Pakhi)

'भोर की उजास है बिटिया, प्रभात की पहली किरण है बिटिया, सफलता का हर क्षण है बिटिया, जीवन का सार है बिटिया, खुशियों का संसार है बिटिया।' हमारा घर बेटियों से रोशन है। अब एक कदम और आगे बढ़ाएं और इस बार 5 अप्रैल के दिन को सार्थक बनाएं। राजस्थान पत्रिका के अभियान 'बिटिया@ वर्क' के साथ जुड़कर अपने जीवन की अमूल्य निधि अपनी बिटिया को मौका दें आपके संसार को समझने का। इस खास दिन अभियान के साथ कदम से कदम मिलाते हुए आप अपने कार्यस्थल पर 8 से 19 वर्ष तक की बेटी को जरूर लाएं। यह कार्यस्थल आपका दफ्तर, खेत-खलिहान, व्यापारिक प्रतिष्ठान, कारखाना, दुकान कोई भी हो, लेकिन बेटी को इस कर्मक्षेत्र से परिचित कराएं। आपके काम का मर्म समझाएं, आपकी सीट पर बैठाएं और आपकी तरह ही काम करने का मौका दें। खास दिन का यह अनुभव आपकी बिटिया को नई ऊंचाई देगा और आपके स्नेह की मिठास को और बढ़ा देगा। इन खास पलों के फोटो आप हमारे साथ शेयर करें। हम इसे करोड़ों पाठकों तक पहुंचाएंगे।  (राजस्थान पत्रिका की अपील)


एक टिप्पणी भेजें